पति के शहीद होने के बाद मां ने बेटा भी कर दिया देश के नाम…बनाया आर्मी में ऑफिसर

New Delhi : आपने अक्सर उन शहीदों की कथाएं सुनी और देखी होंगी, जिन्होंने देश के लिए हंसते हुए अपनी जानें कुर्बान कर दी।

उन शहीदों में लांस नायक बच्चन सिंह नाम का एक जवान ऐसा भी था जो कि कारगिल की जंग में 12 जून 1999 को तोलोलिंग में दुश्मनों से लड़ते हुए अपने प्राण न्योछावर कर दिए। राजपूताना राइफल्स की दूसरी बटालियन में लांस नायक बचन सिंह की शहादत की खबर जब घर में पहुंची, तो उनका बेटा हितेश कुमार महज 6 साल का था।

पिता की खोने के बाद ही हितेश ने यह कसम खाई थी कि वह बड़ा होकर वह आर्मी में शामिल होगा। लगभग 19 साल बाद हितेश भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून से पास होकर भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के तौर पर जुड़ गए। हितेश भी उसी बटालियन को ज्वाइन करने जा रहे हैं, जिसमें उनके पिता तैनात थे। हितेश ने सिविल लाइन में अपने पिता को श्रद्धांजलि दी।

मीडिया से बातचीत के दौरान हितेश ने कहा, ’19 सालों तक मैंने केवल भारतीय सेना में भर्ती होने का सपना देखा। यह मेरी मां का भी सपना बन गया था। अब मैं पूरी ईमानदारी और गर्व के साथ देश की सेवा करना चाहता हूं। वहीं हितेश की मां के भारतीय सेना में भर्ती होने के बाद मां कमेश बाला के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि ‘बच्चन के शहीद होने के बाद जिंदगी बहुत कठिन हो गई थी। मैंने अपनी पूरी जिंदगी अपने दोनों बेटों का पालन-पोषण करने में समर्पित कर दी।