तानाजी…वो महान योद्धा जिसने मुगलों को घुटनों पर ला दिया

New Delhi : अजय देवगन की अपकमिंग फिल्म ‘तानाजी द अनसंग वॉरियर’ का नया ट्रेलर रिलीज हो गया है। इसमें वह ख’तरनाक और गुस्से भरे लुक में नजर आ रहे हैं। फिल्म 10 जनवरी 2020 को रिलीज होगी लेकिन उससे पहले चर्चाओं का दौर शुरू हो चुका है।

लोगों के मन में सवाल भी उठने लगे हैं कि आखिर कौन हैं तानाजी मालुसरे जिनके नाम पर फिल्म बनाई जा रही है और अजय देवगन मुख्य भूमिका निभा रहे हैं। लोगों के मन में सवाल भी उठने लगे हैं कि आखिर कौन हैं तानाजी मालुसरे जिनके नाम पर फिल्म बनाई जा रही है और अजय देवगन मुख्य भूमिका निभा रहे हैं।

आज हम आपके इस सवाल का जवाब बताते हैं। तानाजी, छत्रपति शिवाजी महाराज के सेनापति थे। उनकी वीरता की कहानियां काफी प्रचलित थी। उनकी वीरता को देखते हुए शिवाजी उन्हें ‘सिंह’ ही कहा करते थे। 1670 ईस्वी में कोण्डाणा किले (सिंहगढ़) को जीतने में तानाजी ने वीरगति पाई थी। जब शिवाजी सिंहगढ़ को जीतने के लिए निकले थे उस समय तानाजी अपने किसी खास घरेलू कार्यक्रम में जुटे हुए थे। जैसे ही उन्हें शिवाजी महाराज का समाचार मिला वह घर से निकलकर यु’द्ध के लिए रवाना हो गए।

तानाजी मालुसरे शिवाजी महाराज के घनिष्ठ मित्र और वीर निष्ठावान व्यक्ति थे। सेना लेकर तानाजी शिवाजी के पास पुणे की ओर चल दिए। उनके साथ उनका भाई तथा अस्सी वर्षीय शेलार मामा भी थे। पुणे में शिवाजी ने तानाजी से सलाह मशविरा किया और अपनी सेना उनके साथ कर दी।

कोण्डाणा दुर्ग पर तानाजी के नेतृत्व में जवानों ने रात में आक्रमण कर दिया। तानाजी के पास एक गोह थी, जिसका नाम यशवंती था। इसी के सहारे वह किले की दीवार फांदकर मुख्य दरवाजा खोलते थे। कोण्डाणा में भीषण यु’द्ध हुआ। दुर्गपाल उदयभानु नाम के साथ लड़ते हुए तानाजी वीरगति को प्राप्त हुए।

कुछ ही देर में बाद शेलार मामा के हाथों उदयभानु भी मा’रा गया। सुबह का सूरज निकलते निकलते कोण्डाणा दुर्ग पर भगवा ध्वज फहर गया।