पढ़ाई के लिए गाड़ियां साफ कीं,पिज्जा डिलीवर भी किया,आज पुलिस अफसर बन गया है गरीब पिता का बेटा

New Delhi :  देखिए सीधी सी बात है जहां चाह होती है वहां ही राह होती है। अगर आप के अंदर जज्बा और जुनून है तो आपके लिए कोई भी मंजिल पाना आसान है। इस कहावत को सच कर दिखाया है कश्मीर के मोइन ने। 28 साल के मोइन खान एक पिज्जा डिलीवरी ब्वॉय से पुलिस अफसर बन गएहैं।

मोइन के पुलिस अफसर बनने की कहानी हर लड़के के लिए प्ररेणादायक है। जब वो लोगों के घर पिज्जा पहुंचाते तो उनका भी सपना था कि उनके कंधों पर भी चमकते हुए सितारे हों। मोइन का वो सपना सच हो चुका है और अब वो पिज्जा की डिलीवरी नहीं करेंगे बल्कि अपराधियों को हवालात पहुंचाएंगे।

एक तरफ जहां जम्मू-कश्मीर में कुछ भटके हुए नौजवान पुलिस और सुरक्षाबलों को चुनौती देते हुए आतंकवादी बन जाते हैं वहीं दूसरी तरफ मोइन जैसे युवा ने मिसाल पेश की है। अशिक्षित माता-पिता की संतान मोइन खान की मेहनत का ही नतीजा है कि अब उनके शरीर पर खाकी वर्दी होगी और वो समाज के दुश्मनों से लड़ते हुए नजर आएंगे।

अपने पुलिस अफसर बनने के सपने को सच करने के लिए मोइन खान ने पिज्जा डिलीवरी ब्वॉय से लेकर कार धोने तक का काम किया। यहां तक की उन्होंने राशन की दुकान पर भी कई साल बिताए। सात सालों की अथक मेहनत के बाद आज मोइन खान जम्मू-कश्मीर पुलिस में सब इंस्पेक्टर बन चुके हैं।

मोइन खान के सपने को हकीकत में बदलने में एक शख्स ने बड़ी भूमिका निभाई है और वो हैं आईपीएस ऑफिसर संदीप चौधरी जो जम्मू में बिना कोई फीस लिए ‘ऑपरेशन ड्रीम्स’ चलाते हैं। यहीं पर मोइन खान के सपनों को उड़ान मिली और संदीप चौधरी के दिशा-निर्देशों का पालने करते हुए उन्होंने जम्मू-कश्मीर पुलिस की परीक्षा को पास कर लिया। अभी मोइन उधमपुर स्थित पुलिस ट्रेनिंग एकेडमी में अपना प्रशिक्षण पूरा कर रहे हैं।

अपनी इस सफलता को लेकर मोइन खान ने कहा, ‘मैं नगरोटा के थंडा पानी गांव का रहने वाला हूं। मेरे माता-पिता अशिक्षित हैं और मैं अपने घर में ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई पूरी करने वाला पहला शख्स हूं। खान के बड़े भाई डाउन सिंड्रोम से पीड़ित हैं और अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।’