सिपाही जितेंद्र ने पिता बनकर करवाई दो गरीब लड़कियों की शादी, पूरा खर्च उठाया

New Delhi : मात्र 31 साल की उम्र में एक साथ दो गरीब बेटियों के हाथ पीले किए उत्तर प्रदेश पुलिस के सिपाही जितेंद्र यादव ने। जितेंद्र यादव यूपी पुलिस का एक ऐसा सिपाही, जो है…गरीबो का मसीहा, अपनी ड्यूटी के साथ-साथ समाज सेवा करके गरीबो के दिलो में छा गया है।

जनपद झाँसी के आईटीआई के पास आदिवासियों की झुग्गी झोपड़ी में रहने वाली मनीषा और सोनाली बेहद गरीब परिवार की बेटियां हैं। 22 दिसंबर को इनकी शादी होनी थी किसी ने मदद नहीं की, परिवार गरीब इतना कि दो समय की रोटी जुटा पाना मुश्किल उसी पर शादी का बड़ा खर्चा, बारातियों का स्वागत आदि का बचपन मां बाप के ऊपर एक बोझ सामान थीं, ऐसे में एक कांस्टेबल ने 2 बहनों का कन्यादान किया। इस मौके पर दोनों बहने भावुक हो गई और कहा कि कांस्टेबल अंकल हमारे पिता जैसे हैं।

डीआईजी ऑफिस में तैनात सिपाही जितेंद्र यादव ने शुक्रवार को दो गरीब लड़कियों का कन्यादान किया और विदाई में उन्हें पूरा गृहस्थी का सामान भी दिया। दुल्हन बनी 19 साल की सोनाली ने बताया, “हमारे मां-बाप के पास इतना पैसा नहीं था कि वह हमारी शादी कर सकते। मेरी माँ नीरू ने पुलिस वाले अंकल (जितेंद्र) से शादी के लिए मदद मांगी तो उन्होंने हमारा कन्यादान करने का ही निर्णय ले लिया। मैं उनको अपने पिता समान मानती हूँ उन्होंने हमारी पढ़ाई लिखाई का खर्चा भी उठाया था।

वहीं, दूसरी दुल्हन मनीषा ने बताया, मैं जितेंद्र सर को कभी नहीं भूल पाऊंगी क्योंकि जब हमारे परिवार में पैसों की तंगी थी तब उन्होंने हमारा कन्यादान किया। शहर के सबसे बड़े ब्यूटी पार्लर में तैयार हुईं दुल्हन : एक सैलून के ऑनर चंद्रेश ने बताया, “जब हमें पता चला कांस्टेबल जितेंद्र यादव इन गरीब लड़कियों की मदद कर रहे हैं। तो उन्होंने उनसे फोन पर संपर्क किया और कहा दुल्हनों को हम फ्री में तैयार करेंगे और जितेंद्र तैयार हो गए।” उनके इस मानवीय कार्य ने समाज को आइना दिखा दिया, और गरीबो के मसीहा बन गए।