सर्जिकल स्ट्राइक के समय पूरी रात जागते रहे पर्रिकर..सुबह जवानों के लौटने के बाद छह बजे सोए

New Delhi : सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय मनोहर पर्रिकर को भी जाता है। उनके रक्षा मंत्री बनने के बाद पाकिस्तान से इस तरह बदला लिया पूरी दुनिया ने देखा।  उरी में हुए आ’तंकी ह’मले में जवानों की शहा’दत का बदला अक्टूबर 2016 में भारत ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर स’र्जिकल स्ट्राइक कर आ’तंकियों को ढे’र करके लिया था।

सर्जिकल स्ट्रा’इक के दौरान भारतीय सेना के जाबांजों ने पाकिस्तान कई आ’तंकी कैंप ध्वस्त किए थे। सर्जिकल स्ट्राइक के वक्त पूरी रात देश के रक्षा मंत्री ऑपरेशन पर नजर बनाए हुए थे।केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आजतक चैनल से बात करते हुए कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के अगले दिन सुबह पर्रिकर छह बजे सोए वो पूरी रात जागते रहे।

म्यांमार में सर्जिकल स्ट्रा’इक : भारतीय सेना मणिपुर में आ’तंकियों के खिलाफ पीछे साल के मई महीने म्यांमार सरहद पर खु’फिया रिपोर्ट के बाद एक सफल ऑ’परेशन को अंजाम दिया। इस ऑपरेशन पर मनोहर पर्रिकर की पैनी नजर थी और उन्हीं की निगरानी में इस अंतिम रूप दिया गया। इसके लिए पर्रिकर ने खुद उस वक्त के आर्मी प्रमुख को जमीनी हालात लेने के लिए भेजा था। सेना के लोकल कमांडरों को आ’तंकियों के खिलाफ ऑपरेशन करने की योजना को अंतिम रूप दिया। क्या म्यांमार जैसी कार्रवाई करेगी केंद्र सरकार? यहां पर आतं’कियों के सेना के काफिले पर ह’मले में 18 जवान श’हीद हो गए थे। जिसके बाद भारतीय सेना ने म्यांमार बॉर्डर के अंदर घुसकर उ’ग्रवादियों को ‘मा’र गिराया था।

राफेल सौदे पर मुहर : लंबे वक्त से लटके राफेल फाइटर प्लेन के सौदे को रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की अगुवाई में हरी झंडी मिली। सितंबर 2016 में भारत और फ्रांस के बीच राफेल फाइटर प्लेन के सौदे पर हस्ताक्षर हुए। भारत दौरे पर आए फ्रांस के रक्षा मंत्री ज्यां यीव ली ड्रियान और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किए। फ्रांस से भारत 36 राफेल विमान खरीदेगा। यह सौदा 7।8 बिलियन यूरो में तय हुआ। अगर भारतीय रुपये में बात करें तो करीब 59 हजार करोड़ में आएगा। एक राफेल की कीमत हथियार के सहित करीब 1600 करोड़ रुपये की पड़ेगी।चीन की चुनौती से निपटने के लिए मनोहर पर्रिकर ने इस सौदे पर अपनी पूरी ताकत झौंक दी थी। फ्रांस ने इस डील को मनोहर पर्रिकर की एक बड़ी कामयाबी के तौर पर देखी जाती है, क्योंकि पिछले दिनों रक्षा सौदों को लेकर तमाम तरह के विवाद सामने आए थे।