मंदिर में महादेव की पूजा करने आता है दिव्य नाग-नागिन का जोड़ा,लोगों को नहीं पहुंचाता कोई नुकसान

New Delhi : हमारी पृथ्वी पर कई ऐसे शिवमंदिर हैं जहां भोलेबाबा चमत्कार करते नजर आते रहते हैं। इन चमत्कारों का कारण कोई नहीं जानता।

भक्त इसे महादेव की महिमा ही मानते हैं। आदिकाल से ही शिव की पूजा होती आयी है, और वे पृथ्वी पर मौजूद सभी जीवों के प्रिय भी हैं। इसी वजह से महादेव को पशुपतिनाथ भी कहा जाता है। अन्य जीवों की तरह ही नाग भी भोलेनाथ की भक्ति करते हैं और महादेव भी इन्हें प्रेम करते हैं।

महादेव और नागों का प्रेम पूरी दुनिया जानती है। आज हम आपको ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहां महादेव से मिलने उनके प्रिय नाग नागिन आते हैं। आश्चर्य की बात यह है कि नाग-नागिन का यह जोड़ा यह किसी को नुकसान नहीं पहुंचाता और सिर्फ पूजा कर चला जाता है।

हम जिस मंदिर की बात कर रहे हैं वह मंदिर हरियाणा में कैथल जिले में पेहवा के नजदीक अरूणाय स्थित श्री संगमेश्वर महादेव मंदिर है। सावन माह में मंदिर में लाखों श्रद्धालु शिवलिंग का अभिषेक करते हैं। वहीं हर महीने की त्रयोदशी पर मंदिर में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है।

सावन माह के सोमवार पर दिनभर श्रद्धालु मंदिर में पूजा अर्चना करने आते हैं। कहा जाता है कि साल में एक बार यहां नाग-नागिन का जोड़ा आता है और शिवलिंग की पूजा करके चला जाता है। इन्होंने आज तक किसी भी श्रद्धालु को नुकसान नहीं पहुंचाया। मंदिर के पुजारी का कहना है की नाग-नागिन यहां आकर शिव प्रतिमा की परिक्रमा करते हैं। वहीं पुराणों के अनुसार यहां भगवान शिव स्वयं शिवलिंग के रुप में प्रकट हुए थे, जोकी सदियों से यहां विराजमान हैं।