अभी-अभी: आ’तंकवाद दुनिया और मानवता के लिए सबसे बड़ी चुनौ’ती : संयुक्त राष्ट्र में मोदी

New Delhi :  मोदी ने आज संयुक्त राष्ट्र की महासभा को संबोधित किया। मोदी ने कहा कि हम पूरे भारत को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने के लिए अभियान चला रहे हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले पांच वर्षों में हम 15 करोड़ घरों को पानी से जोड़ देंगे।

मोदी ने कहा कि भारत हजारों साल पुरानी संस्कृति है। हम सबका साथ सबका विकास में यकीन रखते हैं। हम भारत ही नहीं दुनिया भर की भलाई के लिए काम कर रहे हैं। हमारे प्रयास हमारे देश तक ही सीमित नहीं हैं। पूरी दुनिया को इनका फल मिलेगा। उन्होंने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग में भारत का बहुत कम योगदान है। उन्होंने कहा हम उस देश के वासी है जिसने दुनिया को बुद्ध दिए हैं। हमारी आवाज है आज आ’तंक के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि आ’तंकवाद दुनिया और मानवता के लिए सबसे बड़ी चुनौ’ती है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र में भाषण से पहले रूहानी से मिले मोदी :  संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र से पहले गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से मुलाकात की। इस दौरान दोनों नेताओं ने चाबहार बंदरगाह और इसके महत्व पर चर्चा की। दोनों नेताओं ने इसके अलावा द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा की और साझा हितों के क्षेत्रीय और वैश्विक विकास पर विचार साझा किए।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अर्मेनिया के प्रधानमंत्री निकोल पाशियान से मुलाकात की और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिए भारत की दावेदारी का लगातार समर्थन करने के लिए धन्यवाद दिया। बुधवार को अपनी मुलाकात के दौरान दोनों देशों ने अपने द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की और अपने स्थिर विकास पर संतोष व्यक्त किया।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘भारत और अर्मेनिया के बीच सदियों से चले आ रहे ऐतिहासिक संबंधों को याद करते हुए दोनों प्रधानमंत्रियों ने दोनों देशों के लोगों के बीच विद्यमान सद्भावना को द्विपक्षीय सहयोग के लिए ठोस आधार बताया।’ मोदी ने द्विपक्षीय व्यापार और निवेश बढ़ाने की जरूरत पर बल देते हुए अर्मेनिया के आईटी, कृषि प्रसंस्करण, फार्मास्यूटिकल, टूरिज्म और अन्य सेक्टरों में अवसरों की खोज में भारतीय कंपनियों की रुचि का उल्लेख किया।