48 घंटे में अस्थमा को ठीक कर देता है लहसुन…बस खाने का सही तरीका पता होना चाहिए

New Delhi :  अस्थमा सांस लेने से संबधित बीमारी है। यह बीमारी ज्यादातर प्रदूषण के कारण बढ़ती जा रही है। अस्थमा दो प्रकार का होता है बाहरी अस्थमा और आंतरिक अस्थमा। बाहरी अस्थमा पालतू जानवरों और धूल-मिट्टी से एलर्जी के कारण होता है और आंतरिक अस्थमा होने का कारण रसायनिक तत्वों जैसे सिगरेट का धुआं, पेंट वेपर्स आदि का सांस लेने द्वारा शरीर में चले जाना है।

इसके अलावा कारखानों, वाहनों से निकलने वाले धूएं के कारण भी लोग अस्थमा के शिकार हो रहें हैं। आज हम आपको अस्थमा के लक्षण और इससे बचने के लिए घरेलू उपचार बताएंगे, जिसे इस्तेमाल करके आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। अस्थमा के लक्षण : 1. बलगम वाली या सूखी खांसी रहना।2. सांस लेने में मुश्किल होना। इसके अलावा सांस लेते हुए आवाज आना और घबराहट होना। 3. ठंडी हवा में सांस लेने पर हेल्थ प्रॉब्लम होना।4. जरा-सा चलने पर सांस फूलना।5. व्यायाम करने पर स्वस्थ ज्यादा खराब होना।

अस्थमा के घरेलू उपचार : 1. अदरक में बहुत सारे औषधीय गुण होते हैं जो अस्थमा की समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। अदरक की चाय बना कर लहसुन की दो पीसी हुई कलियां मिलाएं। इस चाय सुबह और शाम रोजाना पीएं। 2 दिन में आपका अस्थमा ठीक हो जाएगा।

2. अस्थमा से राहत पाने के लिए लहसुन बहुत कारगार उपाय है। इसे इस्तेमाल करने के लिए 30 मि.ली. दूध में लहसुन की 5 कलियां डाल कर उबालें। हर रोज इसका सेवन करें। 3. सांस लेने में तकलीफ होने पर पानी में अजवाइन मिलाकर इसे उबालें और इसकी भाप लें। इससे सांस लेने में किसी भी तरह की तकलीफ नहीं होगी। 4. दमा होने पर लौंग का काढ़ा भी काफी फायदेमंद है। इसे बनाने के लिए 125 मि.ली. पानी में 4-5 लौंग डाल कर 5 मिनट तक उबालें। फिर इसे छान कर 1 चम्मच शुद्ध शहद मिलाकर गर्म-गर्म पीएं। यह काढ़ा हर रोज 2-3 बार पीएं।

5. मुठ्ठीभर सहजन के पत्तियां 180 मि.मी. पानी में 5 मिनट उबालें और फिर इसे ठंडा करके इसमें 1 चुटकी नमक, काली मिर्च और नीबू का रस मिला कर रोगी को पिलाएं।