कश्मीर में कुत्तों को खिलाई जाएगी आ’तंकियों की लाश-नहीं निकाले जाएंगे देश के दुश्मनों के जनाजे

New Delhi : आ’तंकवाद संसार के सारे सुखों को नरक में बदल देता है। आ’तंकियों ने हर देश में अपने पैर जमा लिए हैं। कुछ देशों में तो आ’तंकियों को खुली छूट मिली है वहीं कुछ देशों में अवैध तरीके से घुसपैठ करते हैं। दिनया के तमाम देश आ’तंकवाद के साए में जी रहे हैं।

आ’तंकवाद को मिटाने के लिए विश्व के लगभग सभी देश एकसाथ आ गये हैं। लेकिन इन देशों की कथनी और करनी बिलकुल अलग दिखाई देती है। मौ’त के इन सौदागरों को लेकर पूरे विश्व में अभी तक कोई प्रभावी नियम नहीं बनाया जा सका है। आ’तंकियों की लाश खिलाते हैं कुत्तों को : आ’तंकवाद से परेशान तो लगभग हर देश है। हर देश अपने अपने तरीके से आ’तंकवादियों को सजा देता है। दहशतगर्दों को मरने मारने के अलावा कुछ और नहीं सूझता। हमारे देश के कश्मीर में एक गाँव ऐसा है जहाँ पर आ’तंकियों की लाश कुत्तों को खिलाई जाती है। ये बात बिलकुल सही है। कश्मीर के काका हिल गांव के ग्रामीणों ने आ’तंकियों की लाश कुत्तों को खिलाने का काम शुरू किया है।

घुसपैठ से परेशान थे गांव वाले : लगातार सीमापार से हो रही घुसपैठ से परेशान ग्रामीणों ने यह अनोखा फैसला लिया है। आ’तंकियों से बेहद परेशान हो चुके ग्रामीणों ने कोई और विकल्प न दिखाई देने पर आ’तंकियों से लोहा लेने के लिए की ठान ली। गांव वालों ने अपना और अपने साथियों के दिमाग से आ’तंकियों का डर निकाल फेंका। यह गाँव कश्मीर की पहाड़ियों में स्थित है। यहाँ से आ’तंकी आसानी से छिपकर निकल जाते थे। उसके बाद ग्रामीणों ने आ’तंकियों को पकड़ कर उनकी लाश कुत्तों को खिलाने का काम शुरू कर दिया है।

कवाद संसार के सारे सुखों को नरक में बदल देता है। आ’तंकियों ने हर देश में अपने पैर जमा लिए हैं। कुछ देशों में तो आ’तंकियों को खुली छूट मिली है वहीं कुछ देशों में अवैध तरीके से घुसपैठ करते हैं। दिनया के तमाम देश आ’तंकवाद के साए में जी रहे हैं। आ’तंकवाद को मिटाने के लिए विश्व के लगभग सभी देश एकसाथ आ गये हैं। लेकिन इन देशों की कथनी और करनी बिलकुल अलग दिखाई देती है। मौत के इन सौदागरों को लेकर पूरे विश्व में अभी तक कोई प्रभावी नियम नहीं बनाया जा सका है।