आ’तंकियों का का’ल हैं IPS संजुक्ता..इन्होंने कुछ ही महीनों में मा’र गि’राए थे 16 आ’तंकी

New Delhi : हमारे समाज में कुछ ऐसी महिला पुलिस अधिकारी उभर कर सामने आई हैं, जिन्होंने अपनी बहादुरी और कर्तव्यनिष्ठा का परिचय देते हुए भ्रष्टाचार और आ’तंकवाद पर नकेल कस रखी है। यहां मिलिए ऐसी ही एक बहादुर और ईमानदार महिला पुलिस अधिकारी से, जिन्होंने असम राज्य में पिछले कई सालों से आ’तंकवाद के खिलाफ मोर्चा संभाला हुआ है और सिर्फ 15 महीने में ही 64 से ज्यादा आ’तंकवादियों को गिरफ्तार कर पूरे देश के सामने बहादुरी का एक नया उदाहरण पेश किया। इतना ही नहीं इस युवा आईपीएस अधिकारी को असम राज्य की पहली महिला IPS अधिकारी होने का गौरव भी प्राप्त है।

असम की आयरन लेडी के नाम से प्रसिद्ध IPS अफ़सर ‘संजुक्ता पराशर’ की बहादुरी काबिल-ए-तारीफ़ है। बचपन से ही पराशर को खेल-कूद में बेहद दिलचस्पी थी और इन्होंने कई पुरस्कार भी अपने नाम किये। अपनी शुरूआती शिक्षा असम में लेने के बाद दिल्ली के इंद्रप्रस्थ महाविद्यालय में दाखिला ले कर इन्होंने राजनीती विज्ञान में स्नातक किया और दिल्ली के प्रतिष्ठित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से पीएचडी की।

असम की महिला IPS अफसर संजुक्‍ता पराशर बहादुरी का दूसरा नाम हैं। वह साल 2006 बैच की IPS अफसर हैं, जो असम के सोनितपुर जिले में बतौर एसपी तैनात हैं। संजुक्ता पराशर स्कूली दिनों से ही अपने राज्य में आ’तंवादियों व भ्रष्टाचारियों के कहर से बेहद चिंतित थीं, इसलिए उन्होंने अच्छी रैंक लाने के बावजूद भी असम में ही काम कर अपने राज्य की तस्वीर सुधारने का फैसला किया। संजुक्ता की 2008 में पहली पोस्टिंग माकुम में असिस्टेंट कमान्डेंट के तौर पर हुई, लेकिन कुछ ही महीनों के बाद उन्हें उदालगिरी में हुई बोडो और बांग्लादेशियों के बीच की जातीय हिं’सा को काबू करने के लिए ट्रान्सफर कर दिया गया। अपने ऑपरेशन के महज़ 15 महीने में ही इन्होंने 16 आ’तंकियों को मा’र गिराया और 64 से ज्यादा आ’तंकियों को अपनी हिरासत में ले लिया। संजुक्ता के काम करने के दबंग अंदाज़ से पूरे राज्य व देश में इनकी बहादुरी के उदाहरण दिए जाते हैं।

संजुक्ता पराशर चार वर्षीय बच्चे की माँ हैं, लेकिन इसके बावजूद भी आ’तंकियों के छक्के छुड़ाने में माहिर हैं। हाल ही में इन्होंने एक ऑपरेशन चलाया, जिसमे वे खुद एके47 लेकर आ’तंकियों के खिलाफ़ मोर्चा संभालने मैदान में कूद पड़ीं। पराशर पूरी ईमानदारी के साथ पिछले कई सालों से एंटी-बोडो मिलिटेंट ऑपरेशन्स में अपना भरपूर योगदान दे रही हैं।

आ’तंकियों के बीच संजुक्ता पराशर की ऐसी इमेज बनी हुई है, वे इनके नाम से ही भाग खड़े होते हैं। पराशर अपने समाज को ही अपना पहला परिवार समझती हैं और कई बार वह अपना सारा समय रिलीफ कैंपों में ही व्यतित कर उन लोगों के साथ गुजरना पसंद करती हैं, जो किसी हमले में अपने घर परिवार से बिछड़ चुके हैं। संजुक्ता दो महीने में सिर्फ एक बार ही अपने पति और घरवालों से मिलने के लिए वक़्त निकाल पाती हैं, बाकि के बचा हुआ समय समाज को ही देना पसंद करती हैं।

संजुक्ता पराशर कर्तव्यनिष्ठा, ईमानदारी, धैर्य तथा बहादुरी के साथ हमारे समाज और देश के लिए जो काम कर रही हैं, उसके लिए हमें देश की इस बेटी पर गर्व करना चाहिए। आज हमारे देश को भ्रष्टाचार और आ’तंक से मुक्त कर विकास के पथ पर आगे बढ़ाने के लिए ऐसे ही कुछ और वीर पुलिस अधिकारियों की आवश्यकता है।