इस पुलिसवाले को सलाम, जान पर खेलकर बचाई बाढ़ में डूब रहे दो बच्चों की जान

New Delhi : राजस्थान में भारी बारिश का दौर जारी है। यहां नदी-नाले उफान पर हैं ।बाढ़ की गंभीर स्थिति के बावजूद किए गए साहसिक कार्य के लिए राजस्थान पुलिस के कांस्टेबल राकेश मीणा की जमकर तारीफ हो रही है।

रविवार सुबह ड्यूटी पर जाते समय मीणा को बच्चों के रोने की आवाज सुनाई दी। जिसके बाद उन्होंने पास जाकर देखा तो दो बच्चे बाढ़ की पानी में फंसे हुए थे। राकेश मीणा ने बहादुरी दिखाते हुए एक ट्यूब लेकर बच्चों को बचाने के लिए पानी में कूद पड़े। जिसके बाद वह बच्चों को बचाकर बाहर लाए। उनके इस साहसिक कार्य की सब प्रशंसा कर रहे हैं।

राज्य के 5 बड़े बांध कोटा बैराज, राणाप्रताप सागर, जवाहर सागर और माही बजाज के सभी गेट खोलने पड़े हैं। बीसलपुर बांध के भी 18 में से पहली बार 17 गेट खोले गए। कोटा, बारां, बूंदी, चित्तौड़गढ, झालावाड़ में बाढ़ के हालात बने हुए हैं। यहां सेना-एनडीआरएफ ने मोर्चा संभाला है। बारां, झालावाड़ में सोमवार को स्कूल बंद रहेंगे। जयपुर में सोमवार को करीब सवा दो इंच बारिश हुई।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बाढ़ प्रभावित जिलों के सभी कर्मचारियों के अवकाश निरस्त किए गए हैं। गहलोत ने आज बूंदी, कोटा, झालावाड़ व धौलपुर का हवाई सर्वेक्षण कर बाढ़ की विभीषिका का जायजा लिया।

कोटा में चंबल नदी का पानी तेजी से निचले इलाकों को अपनी चपेट में ले रहा है। शहर के कई इलाके बाढ़ की चपेट में हैं। प्रशासन की कई टीमें सेना के साथ राहत और बचाव कार्य में लगी हुई हैं।