बेटे के करियर के लिए पिता ने बेच दी पुश्तैनी जमीन, आज टीम इंडिया के प्रमुख खिलाड़ी हैं चहल

New Delhi : चहल एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने क्रिकेट और शतरंज दोनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। यूजवेन्द्र चहल का जन्म 23 जुलाई 1990 को जिंद, हरियाणा, भारत में मिडल क्लास फैमिली में हुआ था। उनके पिता के के चहल जींद कोर्ट के एडवोकेट है और माँ सुनीता देवी हाऊस वाइफ़ है।

उनके पिता की ख़्वाहिश थी कि उनका बेटा कामयाब हो। इसलिए जब उन्होंने क्रिकेट खेलने की इच्छा जाहीर की तो उन्होंने अपने पुश्तैनी डेढ़ एकड़ जमीन को क्रिकेट पिच के रूप में तैयार करवा दिया, जहां वे नियमित रूप से प्रैक्टिस किया करते थे। 2006 में जब उन्हें अपने चेस गेम के लिए स्पोंसर्स मिलने बंद हो गए तो तब उनके सामने सबसे बड़ी विपदा आई कि कैसे वे इस खेल पर खर्च होने वाले 60 लाख रुपये प्रति साल जुटा पाएंगे। इसलिए उन्होंने चेस क्विट कर दी और क्रिकेट को ही अपना नं- 1 पैशन बना लिया।

2. 2009 में अंडर-19 कूच बिहार ट्रॉफ़ी में सर्वाधिक 34 विकेट लिए थे। इससे वे बड़े खिलाड़ियों की नज़र में आए और उन्हें बड़े मैचों में तवज्जो मिली।  3. 2011 में चैम्पियंस लीग टी-20 में मुंबई इंडियंस की टीम में जगह मिली और उन्होंने अपना जलवा भी दिखाया। फाइनल में उन्होंने नौ रन देकर दो विकेट लिए और मुंबई इंडियंस की ख़िताबी जीत में अहम भूमिका निभाई।
5. चहल शतरंज का खिलाड़ी था और मात्र 7 साल की उम्र से उन्होंने चेस खेलना शुरू कर दिया था। इन्होंने अंडर-12 की नेशनल किड्स चेस चैंपियनशीप भी जीती थी और इसके अलावा वो अंडर 16 नेशनल चेस चैंपियनशिप का भी हिस्सा रह चुके हैं।  6. 11 जून 2016 को जिम्बॉब्वे के खिलाफ चहल ने अपने वनडे करियर का आगाज़ किया। 18 जून 2016 को जिम्बॉब्वे के खिलाफ ही चहल ने अपने अंतरराष्ट्रीय टी20 करियर का आगाज़ किया।