BSF-CRPF के जवान करेंगे अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा, तैनात होंगे 45 हजार जवान

New Delhi : लोकसभा चुनावों के बाद केंद्रीय सुरक्षाबल अब बाबा अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की तैयारियों में जुट गए हैं। पुलिस और केंद्रीय अ‌र्द्धसैनिक बलों जैसे कि CRPF-BSF के लगभग 45000 जवान, अधिकारियों समेत सेना के जवान भी 46 दिन की यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था का हिस्सा बनेंगे।

ड्रोन और खोजी कुत्तों के दस्ते भी तलाशी अभियानों के दौरान आ’तंकियों का पता लगाने में सुरक्षाबलों की मदद करेंगे। बाबा अमरनाथ की यात्रा पहली जुलाई से शुरू हो रही है जो 15 अगस्त को रक्षाबंधन तक चलेगी। अब तक एक लाख श्रद्धालु इस यात्रा के लिए अग्रिम पंजीयन करा चुके हैं।

संबंधित अधिकारियों ने बताया कि बाबा अमरनाथ यात्रा को सुरक्षित बनाने की कवायद शुरू हो चुकी है। पुलिस, सेना और केंद्रीय अ‌र्द्धसैनिक बलों के वरिष्ठ अधिकारी खुफिया एजेंसियों से लगातार बातचीत कर सुरक्षा कवच तैयार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि यात्रा मार्ग पर जवाहर सुरंग से लेकर पहलगाम और जवाहर सुरंग-अनंतनाग-पांपोर-पंथाचौक-एचएमटी क्रासिग-गांदरबल-कंगन मार्ग को तीर्थयात्रा के मददेनजर अत्यंत संवेदनशील घोषित किया गया है।

इस पूरे मार्ग को अलग-अलग सेक्टर में बांटा गया। यात्रा मार्ग पर स्थित सभी प्रमुख कस्बों और बाजारों में विशेष चौकियां स्थापित की जा रही हैं। चिन्हित स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। ड्रोन निगरानी करेंगे।

यात्रा मार्ग को सुरक्षित बनाने की जिम्मेदारी जम्मू से पहलगाम और बालटाल तक सीआरपीएफ के पास रहेगी। इसके आगे यह जिम्मेदारी बीएसएफ और सेना संभालेगी। यात्रा मार्ग के आसपास के जंगलों और पहाड़ों में छिपे आ’तंकियों को खदेड़ने के लिए सेना अभियान चलाएगी।