बिट्टा ने कहा-धारा-370 पर संसद में करवाएं वोटिंग पता चल जाएगा देश का गद्दार कौन है

New Delhi : आ’तंकवाद विरोधी मोर्चा (AIATF) के अध्यक्ष मनिंदरजीत सिंह बिट्टा (MS बिट्टा) ने संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए को रद्द करने के लिए संसद में वोटिंग कराने की मांग की है। बिट्टा का कहना है कि यदि इन धाराओं को खत्म करने के लिए देश की संसद में वोटिंग होती है तो इससे देशवासियों को राष्ट्र को गद्दारों की पहचान करने में मदद मिलेगी।

राजनीति को अलविदा कह चुके बिट्टा फिलहाल एaआईएटीएफ के अध्यक्ष होने के साथ साथ कारिगल युद्ध तथा भारतीय संसद पर हुए हमले में शहीद जवानों के परिजनों की देखभाल का जिम्मा भी उठा रहे हैं। कश्मीर में धारा 370 और 35 ए को लेकर मीडिया द्वारा पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए एमएस बिट्टा ने कहा कि कश्मीर से ये दोनों अनुच्छेद रद्द होने के बाद समूचे देश के लोगों को घाटी को फिर से जन्नत बनाने के लिए वहां ज़मीन खरीदनी चाहिए।

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, संसद का सत्र चल रहा है और सरकार को यह जानने के लिए मतदान कराना चाहिए कि संविधान के अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को कौन-कौन रद्द कराना चाहते हैं। इससे राष्ट्र को राष्ट्रवादियों और गद्दारों के बारे में जानकारी मिलेगी।’ पंजाब में खालिस्तान के नाम पर आ’तंकवाद को फिर से भड़काने के सवाल का जवाब देते हुए बिट्टा ने कहा कि कुछ मुट्ठी भर लोग विदेश में बैठकर साजिश रच रहे हैं लेकिन पंजाब के लोग उनके नापाक मंसूबों को कामयाब नहीं होने देंगे।

आपकों बता दें कि इस समय संसद का मानसून सत्र चल रहा है। शुक्रवार को ही लोकसभा में गृहमंत्री ने अपना पहला संबोधन देते हुए कहा था कि जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाली संविधान की धारा 370 स्थायी नहीं है बल्कि हमारे संविधान का अस्थायी मुद्दा है। गृहमंत्री ने जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन को 6 महीने और बढ़ाने का प्रस्ताव रखा था।