जमीन और आसमान दोनों से दुश्मन को तबाह कर सकती है आकाश मिसाइल, कई देश चाहते हैं इसे खरीदना

New Delhi :  पाकिस्तान के साथ हालिया विवादों की गहन आंतरिक समीक्षा के बाद भारतीय सेना अब अपनी कई एयर डिफेंस यूनिट को सीमा पर तैनात करने की योजना बना रही है। न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार, सेना के शीर्ष सूत्रों ने बताया है कि कुछ एयर डिफेंस सिस्टम के साथ कई सैन्य टुकड़ियों को भी सीमा के करीब भेजा जा रहा है।

भारतीय सेना के इस एयर डिफेंस यूनिट्स में स्वदेश में निर्मित वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली ‘आकाश’ के साथ रूस में निर्मित क्वादार्ट (Kvadrat) मिसाइल और अन्य पुरानी प्रणालियां शामिल हैं। हाल ही में DRDO के अधिकारियों ने बताया कि आकाश की मांग बढ़ रही है। यह हर स्थिति में कारगर साबित होनी वाली मध्यम रेंज की जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल है।

उन्होंने कहा कि कई देशों ने इसमें दिलचस्पी दिखाई है। डीआरडीओ की ओर से विकसित आकाश मिसाइल सिस्टम हवा में उड़ रहे लक्ष्यों को मार गिराने में सक्षम है। यह युद्धक विमान, क्रूज मिसाइल, हवा से जमीन में मार करने वाली मिसाइल और बैलास्टिक मिसाइलों को निशाना बना सकती है।

क्रिस्टोफर ने कहा कि कई देशों से बातचीत चल रही है और जल्द मिसाइल आपूर्ति के आर्डर मिलने लगेंगे। हालांकि उन्होंने इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी।

एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि डीआरडीओ को दो हजार करोड़ रुपये का बजट मिला है। एक समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे क्रिस्टोफर ने बताया कि ब्रह्मोस मिसाइलों से संबंधित प्रश्नोत्तरी भी आ रही है।