सैमसंग की नोएडा फैक्ट्री। साथ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रतीकात्मक तस्वीर। Image Source : Hindustan Times

सैमसंग आखिरकार अपनी डिस्प्ले मैन्युफैक्चरिंग फैक्ट्री को चीन से नोएडा लेकर आया

New Delhi : दक्षिण कोरियाई इलेक्ट्रॉनिक्स दिग्गज सैमसंग ने आखिरकार अपनी डिस्प्ले मैन्युफैक्चरिंग यूनिट को चीन से उत्तर प्रदेश के नोएडा में स्थानांतरित कर दिया है। सैमसंग के नये कारखाने का निर्माण पूरा हो गया है। न्यूज एजेंसी पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार सैमसंग ने अधिक निवेशक-अनुकूल नीतियों और बेहतर औद्योगिक वातावरण के कारण अपनी डिस्प्ले निर्माण सुविधा को स्थानांतरित करने का निर्णय लिया है। सैमसंग पहले से ही नोएडा में दुनिया का सबसे बड़ा स्मार्टफोन निर्माण संयंत्र संचालित करता है जिसे 2020 में खोला गया था। अब कंपनी चीन से अपनी डिस्प्ले निर्माण इकाई को स्थानांतरित करके आपूर्ति श्रृंखला को जोड़ना चाहती है।

यह विशेष कारखाना स्मार्टफोन, टीवी और मॉनिटर के लिये डिस्प्ले का निर्माण कर सकता है। सैमसंग का नया संयंत्र भारत सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम को आगे बढ़ायेगा और राज्य के लिये अधिक रोजगार पैदा करेगा। सैमसंग का यह फैसला उत्तर प्रदेश को एक विनिर्माण केंद्र बनायेगा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को सैमसंग के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की और राज्य में व्यावसायिक गतिविधियों को चलाने के लिये हर संभव मदद का आश्वासन दिया। सैमसंग के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व सीईओ केन कांग (भारत और दक्षिण-पश्चिम एशिया) ने किया। मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान राज्य में कंपनी की व्यावसायिक गतिविधियों की गति तेज करने का आश्वासन दिया।
राज्य सरकार की एक आधिकारिक विज्ञप्ति में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा – देश और विदेशों से निवेशक और कंपनियां राज्य में प्रोडक्शन यूनिट‍्स और उद्योग स्थापित करने के लिये उत्साहित हैं। सैमसंग प्रतिनिधिमंडल ने COVID-19 लॉकडाउन के दौरान भी गतिविधि की अनुमति देने के राज्य सरकार के फैसले की भी सराहना की।
यह ध्यान देने योग्य है कि भले ही सैमसंग मोबाइल प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) योजना का हिस्सा हो, लेकिन कंपनी वर्तमान में दूरसंचार क्षेत्र की योजना में भाग नहीं ले रही है। कंपनी की फिलहाल दूरसंचार पीएलसी योजना में कोई दिलचस्पी नहीं है क्योंकि उसके पास पहले से ही दक्षिण कोरिया, वियतनाम और चीन में पर्याप्त दूरसंचार उपकरण निर्माण संयंत्र हैं।

सैमसंग वर्तमान में रिलायंस जियो को देश में अपने 5G परीक्षण करने में मदद कर रहा है। चूंकि कंपनी दूरसंचार ऑपरेटर के साथ भी काम करती है तो कंपनी का मानना ​​​​है कि उसके पास उपकरण बनाने की पर्याप्त क्षमता है। रिलायंस जिओ को अपने नेटवर्क रोलआउट संचालन के लिये इसकी आवश्यक होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *