अवैध निर्माण को ध्वस्त कराती यूपी पुलिस। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रतीकात्मक फाइल फोटो।

दिल्ली में घुसकर यूपी पुलिस ने रोहिंग्याओं से पूरी बस्ती खाली कराई, अवैध अतिक्रण को तोड़े

New Delhi : दिल्ली में रोहिंग्याओं के अवैध अतिक्रमण के खिलाफ योगी आदित्यनाथ सरकार के निर्देश पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुये मदनपुर खादर क्षेत्र की 6 एकड़ अवैध कब्जे वाली जमीन को मुक्त कराया। मदनपुर खादर क्षेत्र में अवैध रूप से कब्जे वाले भूमि पर बने ढांचों को गिराने के लिये गुरुवार की सुबह 4 बजे से जेसीबी के साथ कार्रवाई शुरू की गई। कई करोड़ की यह भूमि उत्तर प्रदेश के सिंचाई विभाग के स्वामित्व में है और इस जमीन पर अवैध रोहिंग्या और बांग्लादेशियों द्वारा कब्जा कर लिया गया था। उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डॉ महेंद्र सिंह ने विध्वंस अभियान का वीडियो शेयर कर यह जानकारी दी। उन्होंने ट‍्वीट किया- उत्तर प्रदेश सरकार ने अवैध ढांचों को गिरा दिया है और अब जमीन को अपने कब्जे में ले लिया है।

उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डॉ महेंद्र सिंह ने ट‍्वीट किया- दिल्ली में फिर से चला योगी का बुल्डोजर, योगी सरकार की दिल्ली में बड़ी कार्यवाही, मदनपुर खादर में सुबह 4 बजे ही कार्यवाही कर सिंचाई विभाग की भूमि पर अवैध कब्जे से रोहंगिया केम्पों को हटाया गया एवं अवैध कब्जे तोड़े गये। उ.प्र.सिंचाई विभाग की 2.10 हेक्टेयर जमीन मुक्त कराई गई। इससे पहले मार्च महीने में भी कार्रवाई की गई थी और छह एकड़ जमीन को रोहिंग्या और बांग्लादेशियों से मुक्त कराया गया था।
जाहिर है, अवैध रूप से कब्जे वाली जमीन पर 300 से अधिक रोहिंग्याओं ने कब्जा कर लिया था, जिन्होंने उस पर अवैध निर्माण किया था। पिछले साल एक रिपोर्ट में जानकारी दी गई थी कि रोहिंग्या राष्ट्रीय राजधानी के मदनपुर खादर इलाके में श्मशान घाट के पार अवैध रूप से रह रहे थे। इसके अलावा वे यूपी सरकार के सिंचाई विभाग के स्वामित्व वाली भूमि पर बस गये थे। रिपोर्ट के अनुसार, अवैध रोहिंग्या प्रवासियों को सभी सरकारी लाभ भी मिल रहे थे। लॉकडाउन के बीच दिल्ली सरकार और ओखला विधायक अमानतुल्ला खान पर उन्हें भारी मात्रा में राशन मुहैया कराने का आरोप लगा। मदनपुर खादर नई दिल्ली में ओखला निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत आता है। रिपोर्ट के अनुसार, रोहिंग्याओं की अवैध बस्ती में बिजली कनेक्शन और बोरवेल का पानी भी चोरी से पहुंच गया था।
इस बीच, आस-पास के क्षेत्र में रहने वाले अन्य प्रवासी कामगारों को आप सरकार द्वारा राशन और अन्य बुनियादी सुविधाओं से वंचित कर दिया गया। ओखला के गरीबों ने अमानतुल्ला खान के निर्वाचन क्षेत्र में राशन वितरण में धार्मिक भेदभाव का आरोप लगाया था। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया था कि उन्हें राशन नहीं दिया गया क्योंकि वे हिंदू थे और ‘आप’ को वोट नहीं दिया।
दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट में आगे कहा गया था कि स्थानीय निवासियों ने आरोप लगाया कि कालिंदी कुंज पुलिस स्टेशन के अधिकारियों को अवैध रोहिंग्याओं द्वारा मारिजुआना, स्मैक और अन्य अवैध पदार्थ बेचने की जानकारी थी, लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई करने से परहेज किया। कई आरडब्ल्यूए ने दिल्ली पुलिस से अवैध बंदोबस्त को हटाने का अनुरोध किया था, लेकिन सभी दलीलें अनसुनी रह गईं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *